अम्मी

चिन्तन,दर्शन,जीवन,सर्जन, रूह, नज़र पर छाई अम्मी सारे घर का शोर-शराबा,सूनापन, तनहाई अम्मी घर में झीने रिश्ते मैने कितनी बार उधड़ते…

Continue Reading →