इस कद्र बेफिक्री हो

इस कद्र बेफिक्री हो इस कद्र बेफिक्री हो ओरत के लिए , कि उसे स्वयं का अस्तित्व बनाने  पे शर्माना न पड़े ! गर कोई और करता है उसकी आबरू को तार-तार, तो शर्मसार हो वो दरिंदा ओरत को मुह छिपाना न पड़े हो जाये कुछ ऐसा कि रहे वो इंसान ही, हमें ओरत को देवी या महान  बनाना न पड़े ! इस कद्र बराबर हो जाएँ सब इस जहाँ में, कि अपने अधिकार के लिए हर बार ओरत को चिल्लाना न पड़े !! एक ओरत होने के नाते मेरी…

Continue Reading →